पुतिन और शी का द्विपक्षीय संबंधों की मज़बूती पर ज़ोर

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पेइचिंग शिखर सम्मेलन में द्विपक्षीय सहयोग के महत्त्व की पुष्टि की है।

पुतिन, चीन की दो दिवसीय राजकीय यात्रा के लिए बृहस्पतिवार सुबह पेइचिंग पहुँचे। 7 मई को राष्ट्रपति पद का अपना पाँचवाँ कार्यकाल शुरू करने के बाद से यह पुतिन की पहली विदेश यात्रा है।

चीनी मीडिया ने बताया कि बृहस्पतिवार दुपहर को मुलाक़ात के दौरान शी जिनपिंग ने पुतिन को उनके पाँचवें कार्यकाल के लिए बधाई दी। शी ने कहा कि पुतिन के नेतृत्व में रूस निश्चित रूप से राष्ट्रीय विकास में और अधिक प्रगति करेगा।

शी ने पुतिन से कहा कि दोनों नेता पिछले कुछ सालों में 40 से ज़्यादा बार मिल चुके हैं और उनके बीच काफ़ी नज़दीकी संपर्क बना हुआ है। उन्होंने सुझाव दिया कि पेइचिंग, मॉस्को के साथ अपने सहयोग को और मज़बूत करेगा।

ख़बरों में शी के हवाले से कहा गया कि द्विपक्षीय संबंधों का निरंतर विकास न केवल दोनों देशों के मौलिक हित में है, बल्कि यह क्षेत्र और विश्व की शांति, स्थिरता एवं समृद्धि के लिए भी अनुकूल है।

पुतिन ने कथित तौर पर जवाब दिया कि रूस और चीन ने व्यावहारिक सहयोग किया है।

रूसी मीडिया के अनुसार पुतिन ने रूस-चीन सहयोग को वैश्विक स्थिरता के मुख्य कारकों में से एक बताया है। उन्होंने आर्थिक और अन्य क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंधों के महत्त्व पर ज़ोर दिया।