उ.कोरिया पर साइबर हमलों में 3.6 अरब डॉलर की चोरी का संदेह

संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध निरीक्षकों को संदेह है कि 2017 से अप्रैल 2024 के बीच 3.6 अरब डॉलर मूल्य की क्रिप्टोकरेंसी की चोरी से संबंधित 97 साइबर हमलों के पीछे उत्तर कोरिया का हाथ था।

ये निरीक्षक, सुरक्षा परिषद् की विशेषज्ञ समिति के सदस्य हैं जो उत्तर कोरिया पर प्रतिबंधों के क्रियान्वयन की निगरानी करती है। रूस द्वारा समिति अधिदेश के नवीनीकरण को वीटो किये जाने के बाद, अप्रैल अंत में इसे भंग कर दिया गया था।

संयुक्त राष्ट्र के राजनयिक सूत्रों का कहना है कि कुछ निरीक्षकों ने अपना अधूरा काम शुक्रवार को सुरक्षा परिषद् की उत्तर कोरिया प्रतिबंध समिति को पेश किया।

अपनी रिपोर्ट में, निरीक्षकों ने आरोप लगाया है कि उत्तर कोरिया ने एक एक्सचेंज से 14.75 करोड़ डॉलर मूल्य की क्रिप्टोकरेंसी चुरायी और मार्च में क्रिप्टो मिक्सर सेवा का उपयोग कर उसे प्राप्त किया।

मिक्सर सेवा, कई उपयोगकर्ताओं की क्रिप्टोकरेंसी को एक साथ मिला देती है, जिससे फ़ंड की उत्पत्ति और स्वामित्व का पता नहीं चल पाता।

रिपोर्ट में कहा गया है कि चुरायी गई धनराशि का उपयोग उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल विकास कार्यक्रमों के वित्तपोषण के लिए किया जा रहा है।

आशंका है कि विशेषज्ञ समिति को भंग करने से उत्तर कोरिया द्वारा प्रतिबंधों के उल्लंघन की निगरानी करने की संयुक्त राष्ट्र की क्षमता कमज़ोर हो जाएगी।