इज़्रायल ने मध्यवर्ती राफ़ा में जारी किया पलायन आदेश, अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया हुई तीखी

इज़्रायली सेना ने दक्षिणी गाज़ा के राफ़ा पर अपने हमले का दायरा बढ़ाते हुए इस शहर में नये पलायन आदेश जारी किये हैं। अंतरराष्ट्रीय समूहों ने इस क़दम पर तीखी प्रतिक्रिया दी है।

इज़्रायली सेना ने शनिवार को मध्यवर्ती राफ़ा और अन्य क्षेत्रों में पलायन आदेश जारी किया। इससे पहले सेना ने पूर्वी राफ़ा में पलायन नोटिस जारी किया था, जहाँ 10 लाख से अधिक लोगों ने शरण ली हुई है।

सेना ने कहा कि अब तक लगभग 3,00,000 लोग पलायन कर चुके हैं।

संयुक्त राष्ट्र फ़िलिस्तीनी शरणार्थी एजेंसी यानि यूएनआरडब्ल्यूए के प्रमुख ने इस हालिया क़दम पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की।

यूएनआरडब्ल्यूए महा-आयुक्त फ़िलिपे लाज़ारीनी ने सोशल मीडिया पर लिखा कि युद्ध शुरू होने के बाद से गाज़ा पट्टी के लोग सुरक्षा की तलाश में हैं, जो उन्हें कभी मिली नहीं। उन्होंने कहा कि गाज़ा में कोई भी सुरक्षित जगह नहीं है।

यूरोपीय परिषद् के अध्यक्ष चार्ल्स मिशेल ने सोशल मीडिया पर कहा, "राफ़ा में फंसे नागरिकों को असुरक्षित क्षेत्रों में पलायन करने के लिए विवश करना अस्वीकार्य है।"

उन्होंने इज़्रायल से अंतरराष्ट्रीय मानवीय क़ानून का सम्मान करने का आह्वान करते हुए राफ़ा में ज़मीनी कार्रवाई न करने का आग्रह किया।

गाज़ा के स्वास्थ्य अधिकारियों ने शनिवार को घोषणा की कि इज़्रायल-हमास संघर्ष शुरू होने के बाद से अब तक क्षेत्र में 34,971 लोग मारे जा चुके हैं।