वित्त वर्ष 2023 में रिकॉर्ड चालू खाता अधिशेष दर्ज

जापान ने वित्त वर्ष 2023 में सर्वाधिक चालू खाता अधिशेष दर्ज किया, जिसमें वाहन निर्यात में आयी तेज़ी का योगदान रहा।

वित्त मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि यह अधिशेष 253 खरब येन यानि लगभग 162 अरब डॉलर से अधिक है। यह उससे पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 104 अरब डॉलर से ज़्यादा है।

चालू खाते को विश्व के साथ जापान के व्यापार और निवेश का प्रमुख पैमाना माना जाता है।

कच्चे तेल और अन्य प्रकार की ऊर्जा की क़ीमतों में भारी वृद्धि के बाद स्थिरता आयी, जिससे जापान की आयात लागत कम हुई।

सेमीकंडक्टर आपूर्ति में वृद्धि से वाहन-संबंधी बिक्री बढ़ी, जिससे व्यापार घाटे में गिरावट दर्ज की गयी।

प्राथमिक आय अधिशेष रिकॉर्ड 355 खरब येन यानि लगभग 228 अरब डॉलर तक पहुँच गया। इसमें लाभांश और ब्याज शामिल हैं, जो जापानी कंपनियाँ अपनी विदेशी सहायक कंपनियों से प्राप्त करती हैं।

कमज़ोर येन और विदेशी बंधपत्रों की उच्च ब्याज दरों के चलते यह आँकड़ा, वित्त वर्ष 2022 की तुलना में एक अरब डॉलर से अधिक रहा।