पहली तिमाही में जापान की जीडीपी में गिरावट का अनुमान

निजी क्षेत्र के विश्लेषकों का अनुमान है कि जनवरी से मार्च की अवधि में जापान की अर्थव्यवस्था में संकुचन आया।

वे उपभोक्ता ख़र्च और निर्यात में कमी की ओर इशारा कर रहे हैं।

11 शोध कंपनियों के द्वारा किये गए सर्वेक्षण में पाया गया कि सभी ने पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद यानि जीडीपी में कमी आने का अनुमान लगाया है। सरकार अगले बृहस्पतिवार को प्रारंभिक डाटा जारी करेगी।

विश्लेषकों ने मुद्रास्फीति-समायोजित आधार पर वार्षिक वृद्धि का अनुमान ऋणात्मक 1 प्रतिशत से लेकर ऋणात्मक 3.3 प्रतिशत तक लगाया है।

एक कंपनी को छोड़कर सभी का कहना है कि उपभोक्ता व्यय की वृद्धि दर संभवतः पिछली तिमाही की तुलना में कम हुई है।

जापान की जीडीपी में व्यक्तिगत उपभोग का योगदान आधे से अधिक है।

उन्होंने बताया कि वाहनों की बिक्री कमज़ोर रही, क्योंकि कुछ विनिर्माताओं ने सरकारी प्रमाणन प्रक्रियाओं में अनियमितताओं के कारण उत्पादन और बिक्री रोक दी थी।

उन्होंने यह भी कहा कि बढ़ती क़ीमतों के बीच उपभोक्ताओं ने खाद्य पदार्थों पर कम ख़र्च किया।

सभी कम्पनियों का यह भी मानना ​​है कि विदेशी पर्यटकों द्वारा किये गए भारी ख़र्च के बावजूद वाहन बिक्री में गिरावट के कारण निर्यात में कमी आयी है।

विश्लेषकों का यह भी अनुमान है कि पूंजीगत व्यय में गिरावट आयी है। उनका कहना है कि इन आँकड़ों से पता चलेगा कि जनवरी से मार्च के बीच देश की अर्थव्यवस्था ठप पड़ गयी थी।