शास्त्रीय पियानो वादक फ़ुजिको हेमिंग का 92 वर्ष की आयु में निधन

शास्त्रीय पियानो वादक फ़ुजिको हेमिंग का 92 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। उन्होंने 60 के दशक के अंत में अपना सर्वाधिक बिकने वाला पहला एल्बम जारी किया था। हेमिंग ने विपरीत परिस्थितियों पर क़ाबू पा कर, प्रस्तुतियों में अपने गर्मजोशी भरे व्यक्तित्व को दर्शाते हुए कई लोगों का दिल जीता।

फ़ुजिको हेमिंग फ़ाउंडेशन ने बृहस्पतिवार को घोषणा की कि मार्च में अग्नाशय के कैंसर का पता चलने के बाद 21 अप्रैल को उनकी मृत्यु हो गयी।

हेमिंग का जन्म स्वीडिश पिता और जापानी माँ के यहाँ हुआ था। उन्होंने पाँच साल की उम्र में अपनी माँ के साथ पियानो सीखना शुरू कर दिया था।

हेमिंग एक महत्त्वपूर्ण संगीत समारोह से पहले बीमार पड़ गयीं और उन्होंने अपनी श्रवण क्षमता अस्थायी रूप से खो दी थी। फिर भी उन्होंने पियानो बजाना जारी रखा।

हेमिंग को लिज़्ट और चॉपिन की रचनाओं की व्याख्या के लिए ख्याति मिली। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध ऑर्केस्ट्रा समूहों के साथ प्रस्तुति दी और 90 वर्ष की आयु के बाद भी पियानो बजाना जारी रखा।