जापान के सम्राट के राज्याभिषेक को हुए 5 वर्ष

जापान के सम्राट नारुहितो के राज्याभिषेक को बुधवार को पाँच वर्ष पूरे हो गये हैं।

सम्राट ने इस दौरान राष्ट्र के प्रतीक के रूप में अपनी भूमिका पर चिंतन किया। उन्होंने कोरोनावायरस महामारी में लोगों से जुड़ने के नये तरीके भी खोजे, जिसमें सोशल मीडिया का उपयोग करना भी शामिल है।

राज्याभिषेक के बाद पहले संवाददाता सम्मेलन में सम्राट ने कहा था कि वे कई लोगों से मिलने और उनके बारे में जानने के अवसरों की महत्ता समझते हैं।

इस प्रतिबद्धता पर कायम रहते हुए वे वार्षिक कार्यक्रमों के लिए साम्राज्ञी मासाको के साथ जापान भर में विभिन्न स्थानों की यात्रा करते आ रहे हैं। पूर्व सम्राटों का अनुसरण करते हुए, शाही दंपति प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर, आपदाग्रस्त लोगों को सांत्वना देता रहा है।

प्रथम वर्ष 2019 में दंपति ने भारी बारिश से प्रभावित पूर्वोत्तर के मियागि और फ़ुकुशिमा प्रीफ़ैक्चरों का दौरा किया था।

हालाँकि, कोरोनावायरस महामारी के कारण शाही दंपति को लगभग तीन साल तक ऐसी मुलाकातें स्थगित करनी पड़ीं। लेकिन इस दौरान उन्होंने ऑनलाइन बातचीत के ज़रिए लोगों से संपर्क बनाने की कोशिश जारी रखी।

इस साल मार्च और अप्रैल में, उन्होंने मध्यवर्ती जापान के इशिकावा प्रीफ़ैक्चर के नोतो प्रायद्वीप में 1 जनवरी को आये भूकंप से प्रभावित लोगों से मुलाकात की। कोविड-19 प्रतिबंध हटने के बाद ये उनकी पहली ऐसी यात्राएँ थीं।

सम्राट और साम्राज्ञी ने अंतरराष्ट्रीय आदान-प्रदान को बढ़ावा देने का भी प्रयास किया है। वे सितंबर 2022 में महारानी एलिज़ाबेथ के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए ब्रिटेन गये थे। सिंहासन पर बैठने के बाद यह उनकी पहली विदेश यात्रा थी। उन्होंने पिछले साल जून में इंडोनेशिया की आधिकारिक यात्रा भी की थी।