जी7 का 2030 के दशक में कोयला विद्युत उत्पादन समाप्त करने का लक्ष्य

जी7 देशों के ऊर्जा मंत्रियों ने 2030 के दशक के पूर्वार्ध में कोयला विद्युत उत्पादन समाप्त करने पर सहमति व्यक्त की है। उन्होंने साथ ही समाप्ति से जुड़ी एक वैकल्पिक समय-सीमा भी तय की है।

मंत्रियों ने मंगलवार को इटली के टूरिन शहर में दो दिवसीय वार्ता सम्पन्न की। यह बैठक पिछले वर्ष के कॉप28 संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन के बाद हुई है।

बैठक के बाद जारी वक्तव्य में कहा गया है कि जी7 देश 2030 के दशक के मध्य तक बिजली उत्पादन में कोयले का उपयोग बंद कर देंगे, "या ऐसी समयावधि में, जब तापमान वृद्धि 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित की जा सकेगी, जो देशों के शुद्ध-शून्य लक्ष्य के अनुरूप होगा।"

दस्तावेज़ में अन्य देशों से यह भी आग्रह किया गया है कि वे अगले वर्ष के आरम्भ तक वर्ष 2030 और उसके बाद के लिए अपने नये उत्सर्जन कटौती लक्ष्य पेश करें।

वक्तव्य में कहा गया है कि जी7 का 2030 तक वैश्विक अक्षय ऊर्जा क्षमता तीन गुणा बढ़ाने का लक्ष्य है। इसमें बैटरियों और अन्य तरीकों के माध्यम से ऊर्जा भंडारण को वर्तमान स्तरों से 6 गुणा से अधिक बढ़ाकर 1,500 गीगावॉट करने का लक्ष्य रखा गया है।