येन में उतार-चढ़ाव के मद्देनज़र बाज़ार में हस्तक्षेप की अटकलें हुई तेज़

जापानी मुद्रा येन, डॉलर के मुक़ाबले 34 वर्षों के न्यूनतम स्तर पर जा पहुँची, लेकिन जल्द ही सोमवार को उसमें मज़बूती देखी गयी। इस उतार-चढ़ाव के मद्देनज़र अटकलें लगायी जा रही हैं कि जापानी अधिकारियों ने मुद्रा बाज़ार में हस्तक्षेप किया है।

जापान में सोमवार को राष्ट्रीय अवकाश के कारण बाजार बंद रहा, लेकिन अन्य जगहों पर कारोबार आम दिनों की तरह हुआ।

एशियाई बाज़ारों में येन, शुरुआत में 158 के निचले स्तर पर रहा और सोमवार सुबह यह और लुढ़क कर 160 तक जा गिरा। अप्रैल 1990 के बाद ऐसा पहली बार हुआ।

इसके 3 घंटे से भी कम समय बाद येन दुबारा 155 के स्तर पर पहुँच गया।

बाज़ार के जानकारों के अनुसार ऐसी अटकलें लगायी जा रही हैं कि जापान सरकार और बैंक ऑफ़ जापान ने हस्तक्षेप किया है। ऐसा इसलिए क्योंकि निवेशकों के लिए येन ख़रीदने के बेहद कम कारण होने के बावजूद येन में उछाल आया।

अंतरराष्ट्रीय मामलों से संबद्ध वित्त उप-मंत्री कांदा मासातो ने इस घटनाक्रम पर टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया है।

यूरो के मुक़ाबले भी येन ने 1999 के बाद से लेकर अब तक सबसे गहरा गोता लगाया। ग़ौरतलब है कि यूरो मुद्रा 1999 में अपनायी गई थी।