पत्रकार पर यूट्यूब चैनल चलाने में नावाल्नी समूह की मदद करने का आरोप

रूस की एक अदालत का कहना है कि उसने एक पत्रकार पर यह आरोप लगाते हुए उसे हिरासत में लिया है कि उसने दिवंगत विपक्षी नेता एलेक्सेइ नावाल्नी के समर्थक समूह का यूट्यूब चैनल बनाने में मदद की।

ग़ौरतलब है कि नावाल्नी की फ़रवरी में एक जेल में मौत हो गयी थी।

मॉस्को की अदालत ने शनिवार को सोशल मीडिया पर जारी अपनी पोस्ट में कहा कि कॉन्स्टान्टीन गाबोफ़ ने यूट्यूब चैनल के लिए तस्वीरें और वीडियो जैसी सामग्री तैयार करने में मदद की।

नावाल्नी समर्थक समूह को रूस में चरमपंथी गुट घोषित कर उसे हर तरह की गतिविधियों से प्रतिबंधित किया गया है। यह समूह, मुख्य रूप से रूस से बाहर काम करता है।

रूसी अदालत ने गाबोफ़ की राष्ट्रीयता का ख़ुलासा नहीं किया है, लेकिन बताया है कि वह रॉयटर्स समाचार एजेंसी के लिए काम करता है।

रूसी और पश्चिमी मीडिया के अनुसार गाबोफ़, रूस और जर्मनी के मीडिया केंद्रों तथा रॉयटर्स के साथ काम कर चुका है।