फ़ुकुशिमा संयंत्र में बिजली आपूर्ति आंशिक रूप से ठप

फ़ुकुशिमा दाइइचि परमाणु ऊर्जा संयंत्र में बुधवार सुबह बिजली आपूर्ति आंशिक रूप से बाधित होने के कारण, समुद्री जल मिश्रित प्रशोधित जल को समुद्र में छोड़ने का काम रुक गया है।

संयंत्र की संचालक तोक्यो इलेक्ट्रिक पावर कंपनी यानि टेप्को का कहना है कि परमाणु मलबे को ठंडा करने का काम जारी है।

टेप्को ने कहा कि संयंत्र को बिजली की आपूर्ति करने वाली एक प्रणाली ने सुबह करीब 10:43 बजे काम करना बंद कर दिया।

टेप्को ने बताया कि बिजली आपूर्ति ठप होने से समुद्री जल मिश्रित प्रशोधित जल को महासागर में छोड़ने की प्रक्रिया स्वचालित रूप से बंद हो गयी। जल निस्तारण का 5वां दौर शुक्रवार को आरम्भ हुआ था।

टेप्को का कहना है कि अन्य स्रोतों से बिजली उपलब्ध करा कर, संयंत्र की महत्त्वपूर्ण जगहों की सुरक्षा सुनिश्चित की गयी है। इसमें क्षतिग्रस्त रिएक्टरों में इस्तेमालशुदा परमाणु ईंधन और मलबे को ठंडा करना शामिल है। संचालक ने यह भी कहा कि सुविधा के आसपास विकिरण स्तर में कोई असामान्य आँकड़े नहीं देखे गये हैं।

इस बीच, बिजली ठप होने के समय, संयंत्र परिसर में बिजली आपूर्ति केबल के निकट ड्रिलिंग कर रहा एक कर्मचारी जल गया। कर्मचारी को अस्पताल ले जाया गया है।

टेप्को को संदेह है कि ड्रिलिंग के दौरान केबल को क्षति पहुँची होगी और वह इसकी जाँच कर रही है।

सन् 2011 के भूकंप और त्सुनामि में संयंत्र के 3 रिएक्टरों में परमाणु ईंधन पिघल गया था। पिघले ईंधन को ठंडा करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला पानी बारिश और भू जल के साथ मिलकर क्षतिग्रस्त रिएक्टरों की इमारतों में जा रहा है। जमा पानी में से अधिकांश रेडियोधर्मी पदार्थ हटाने के लिए इसे प्रशोधित किया जाता है, लेकिन ट्रिटियम शेष रह जाता है। प्रशोधित जल को संयंत्र में ही टंकियों में भर कर रखा जा रहा है।

प्रशोधित जल महासागर में छोड़ने से पहले, टेप्को इसमें समुद्री जल मिला कर ट्रिटियम के स्तर को विश्व स्वास्थ्य संगठन के पेयजल संबंधी मानक के लगभग 7वें हिस्से तक घटाती है।