तोक्यो एलजीबीटीक्यू कार्यक्रम में भेदभाव उन्मूलन का आह्वान

जापान के सबसे बड़े एलजीबीटीक्यू कार्यक्रमों में से एक के प्रतिभागियों ने रविवार को तोक्यो के शिबुया इलाक़े की सड़कों पर जुलूस निकाला।

लैंगिक अल्पसंख्यकों और उनके समर्थकों ने विविधता के प्रतीक इंद्रधनुषी रंग के झंडों और वस्त्रों के साथ "हैप्पी प्राइड" के नारे लगाते हुए यह जुलूस निकाला।

"प्राइड परेड" नामक इस जुलूस का उद्देश्य, लैंगिक अल्पसंख्यकों के प्रति जागरूकता बढ़ाना और भेदभाव या पूर्वाग्रह समाप्त करना है। पहली बार यह परेड 1994 में आयोजित की गयी थी। कार्यक्रम के आयोजक, तोक्यो रेनबो प्राइड के अनुसार रविवार को हुई इस परेड में लगभग 15,000 लोगों ने भाग लिया।

बढ़ती संख्या में स्थानीय सरकारें, समलैंगिक रिश्तों को विवाह के समान मानते हुए प्रमाण-पत्र जारी करने लगी हैं।

राष्ट्रीय स्तर पर एलजीबीटीक्यू समुदाय के प्रति समर्थन को बढ़ावा देने की मंशा से पिछले वर्ष एक क़ानून लागू किया गया था।

जापानी समाज में एलजीबीटीक्यू समुदाय के प्रति समर्थन धीरे-धीरे बढ़ रहा है, लेकिन अब भी कई ऐसे लोग हैं जिनका जीवन कठिन बना हुआ है।

तोक्यो रेनबो प्राइड के सह-अध्यक्ष सुगियामा फ़ुमिनो का कहना है कि एलजीबीटीक्यू के बारे में जागरूकता बढ़ रही है, लेकिन क़ानूनी व्यवस्था तैयार करने की चुनौती अब भी बरक़रार है।