चिकित्सा सुधारों पर दृढ़ दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति युन सोंग-न्योल ने चिकित्सकों के कड़े विरोध के बावजूद मेडिकल स्कूलों में दाखिलों की संख्या बढ़ाने की सरकारी योजना का बचाव किया है।

सोमवार को टेलीविज़न पर राष्ट्र के नाम संबोधन में युन ने कहा कि यह सुधार जनता के लिए है। उन्होंने यह भी कहा कि यदि चिकित्सा समुदाय के पास इससे बेहतर और तर्कसंगत समाधान है, तो वह सरकार से जितनी चाहे चर्चा कर सकता है।

सरकार ने फ़रवरी में घोषणा की थी कि चिकित्सकों की संभावित कमी से निपटने की तैयारी में वह मेडिकल स्कूलों के कोटे को 60 प्रतिशत से अधिक बढ़ाना चाहती है।

इस पर चिकित्सा समुदाय ने तर्क दिया कि छात्रों की संख्या अचानक बढ़ाने से सेवा गुणवत्ता ख़राब हो जाएगी।

सरकारी योजना के विरोध में क़रीब 10,000 ट्रेनी डॉक्टर पिछले 1 महीने से भी अधिक समय से हड़ताल पर हैं।

दक्षिण कोरिया में 10 अप्रैल को होने वाले आम चुनाव से पहले यह गतिरोध जारी है। स्थानीय मीडिया के अनुसार सत्ताधारी पार्टी कड़ी चुनौती का सामना कर रही है।

राष्ट्रपति ने सुधार लागू करने का इरादा दुहराया है और ऐसे में अब देखना होगा कि उनके इस रुख़ का चुनाव पर क्या असर पड़ता है।