भारत में विपक्षी नेता की गिरफ़्तारी के बाद विरोध प्रदर्शन

भारत के विपक्षी दलों और उनके समर्थकों ने अप्रैल में आम चुनाव से कुछ सप्ताह पहले एक विपक्षी नेता की गिरफ़्तारी के विरोध में रैली निकाली है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को शहर की आब नीति से संबंधित भ्रष्टाचार के आरोपों के सिलसिले में बृहस्पतिवार को गिरफ़्तार कर लिया गया।

वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की केंद्र सरकार के कटु आलोचक रहे हैं।

विपक्षी दलों का कहना है कि उनकी गिरफ़्तारी ग़लत थी और आम चुनाव को प्रभावित करने के लिए राजनीति से प्रेरित थी। उन्होंने सप्ताहांत में राजधानी नई दिल्ली में उग्र विरोध प्रदर्शन किया।

शनिवार को केजरीवाल की आम आदमी पार्टी के नेताओं और समर्थकों सहित लगभग 500 प्रदर्शनकारियों ने एक रैली में भाग लिया और नारे लगाये कि मोदी भारत के लोकतंत्र को नष्ट करने की कोशिश कर रहे हैं।

पुलिस अधिकारियों द्वारा कुछ प्रदर्शनकारियों को बस में धकेले जाने के बाद भी वे सरकार विरोधी नारे लगाते रहे।

विपक्ष ने 31 मार्च को राजधानी में विशाल प्रदर्शन करने की योजना बनायी है।

मोदी के नेतृत्व वाली सत्तारूढ़ पार्टी का कहना है कि वह भ्रष्टाचार से लड़ना जारी रखेगी और केजरीवाल से पद छोड़ने का आग्रह करेगी।