मॉस्को हमले में 137 मृत, पुतिन बुलायेंगे सुरक्षा परिषद् की बैठक

रूस की जाँच समिति का कहना है कि मॉस्को के बाहरी इलाक़े में एक कॉन्सर्ट हॉल में शुक्रवार को हुए सामूहिक हत्याकांड में मरने वालों की संख्या बढ़कर 137 हो गयी है।

रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि 182 लोगों को अस्पताल ले जाया गया है और उनका इलाज किया जा रहा है।

यह हमला शुक्रवार शाम, राजधानी मॉस्को के पश्चिमोत्तर में स्थित क्रास्नोगोर्स्क शहर में हुआ। बंदूकधारियों ने संगीत हॉल में लोगों पर गोलियाँ चलायीं और हमले के बाद इमारत में आग लग गयी।

रूस के सरकारी मीडिया की रिपोर्ट है कि पुतिन घातक हमले की प्रतिक्रिया पर चर्चा करने के लिए सुरक्षा परिषद् की बैठक आयोजित करने की योजना बना रहे हैं।

रूसी अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने 11 लोगों को हिरासत में लिया है, जिनमें से 4 सीधे तौर पर गोलीबारी में शामिल थे। अधिकारियों ने एक वीडियो जारी किया जिसमें संदिग्धों को जाँच समिति मुख्यालय में ले जाते हुए दिखाया गया है। उनका कहना है कि इन 4 को आतंकवाद में शामिल होने के आरोप में दोषी ठहराया गया है। मॉस्को की एक अदालत ने सोशल मीडिया पर घोषणा की है कि 2 संदिग्धों ने आरोप स्वीकार कर लिये हैं और उनमें से 1 ताजिकिस्तान का नागरिक है।

इस्लामिक स्टेट आतंकियों से जुड़ी अमाक़ समाचार एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से बताया कि यह हमला उसके लड़ाकों ने किया है। उसने हमले के ज़िम्मेदार 4 लोगों की तस्वीेरें जारी की हैं।

रूस के राष्ट्रपति कार्यालय का कहना है कि पुतिन ने ताजिकिस्तान के राष्ट्रपति इमोमाली रहमोन से फ़ोन पर बात कर दोनों देशों के संयुक्त आतंकवाद रोधी प्रयासों में तेज़ी लाने पर सहमति व्यक्त की।

इस बीच, हिरासत में लिये गए 11 लोगों का उल्लेख करते हुए पुतिन ने कहा कि संदिग्धों ने भागने का प्रयास किया और वे उक्रेन की ओर जा रहे थे। उन्होंने कहा कि जानकारी के अनुसार, "रूसी सीमा पार करने के लिए उक्रेन ने उनके लिए रास्ता तैयार करके रखा था।"

उक्रेन ने हमले में किसी भी तरह की संलिप्तता से साफ़ इन्कार किया है। उसे चिंता है कि रूस इस घटना की आड़ में उक्रेन पर अपने हमले तेज़ कर सकता है।