जापान के मांगा उद्योग को विदेशी पायरेसी वेबसाइटों से गंभीर ख़तरा

विश्व में जापानी मांगा की लोकप्रियता का फ़ायदा उठाने वाली ऐसी पायरेसी वेबसाइटों की संख्या बढ़ती जा रही है, जो इनके विदेशी भाषा संस्करणों की अवैध बिक्री करती हैं।

ऑथराइज़्ड बुक्स ऑफ़ जापान यानि एबीजे के अनुसार फ़रवरी में किये गए एक सर्वेक्षण में पता चला कि 1,207 वेबसाइटों पर पायरेटेड संस्करण बेचे जा रहे थे। एबीजे का यह भी कहना है कि इनमें से 70 प्रतिशत से भी अधिक यानि 913 वेबसाइटें अंग्रेज़ी, वियतनामी और अन्य विदेशी भाषाओं में थीं।

एबीजे के अनुसार प्रकाशकों और संगठनों द्वारा इस समस्या से निपटने के क़दम उठाये जाने के बाद जापानी पायरेसी वेबसाइटों का इस्तेमाल तेज़ी से कम हुआ था, लेकिन अन्य भाषाओं में उपलब्ध इन वेबसाइटों का इस्तेमाल हाल के वर्षों में बढ़ा है, जिनमें मुख्य रूप से दक्षिणपूर्व एशियाई देशों के लोगों को लक्षित किया जाता है।

एबीजे का अनुमान है कि विदेशी भाषाओं वाली ये वेबसाइटें, जापानी वेबसाइटों की तुलना में कम से कम 5 गुणा अधिक इस्तेमाल की जाती हैं और कॉपीराइट उल्लंघन से होने वाला नुक़सान भी संभवतः बहुत अधिक है।

लोगों को विदेशी पायरेसी वेबसाइटों पर ले जाने वाली कई अवैध मोबाइल ऐप्स, आधिकारिक ऐप स्टोर पर उपलब्ध हैं।

प्रमुख जापानी प्रकाशक कादोकावा का कहना है कि पिछले साल फ़रवरी में गूगल और ऐपल के ऐप स्टोर पर अवैध विदेशी भाषा वेबसाइटों से जुड़ी कम से कम 5 ऐप पायी गईं। प्रकाशक द्वारा क़ानूनी क़दम उठाये जाने के बाद इन्हें स्टोर से हटा दिया गया।