उक्रेनी ऊर्जा संयंत्रों पर रूस की बमबारी

रूसी सेना ने समूचे उक्रेन के ऊर्जा प्रतिष्ठानों पर अप्रत्याशित हमले किये हैं। ये हमले ऐसे समय में हुए हैं, जब रूसी राष्ट्रपति कार्यालय के शीर्ष प्रवक्ता ने पहली बार कहा कि रूस "युद्ध में कूद चुका है।"

शुक्रवार को हुए इन हमलों के कारण 10 लाख से अधिक इमारतों में बिजली गुल होने की ख़बर है।

उक्रेनी राष्ट्रपति कार्यालय के उप-प्रमुख ओलेक्सी कुलेबा के अनुसार इन हमलों में 3 लोग मारे गये और 13 घायल हुए।

उक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की ने सोशल मीडिया पर बताया कि रूस ने क़रीब 90 मिसाइलें दाग़ीं और 60 से अधिक ड्रोन भेजे।

ऊर्जा मंत्री गर्मान गालुश्चेंको ने इस बमबारी को उक्रेन की ऊर्जा अवसंरचना पर अब तक का सबसे बड़ा हमला क़रार दिया।

उन्होंने कहा कि रूस नियंत्रित ज़ापोरीझ़ा परमाणु बिजली घर की पावर लाइन को नुक़सान पहुँचा है। अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेन्सी ने बताया है कि वैकल्पिक विद्युत आपूर्ति व्यवस्था काम कर रही है।

दनिप्रो नदी के तट पर स्थित जलविद्युत ऊर्जा संयंत्र पर हमले के बाद वहाँ आग लगने की ख़बर है।

हाल ही में उक्रेनी सेना ने रूस के पश्चिमी क्षेत्र बेलगोरोद तथा अन्य जगहों पर हमले किये हैं। रूसी अधिकारियों का कहना है कि देश की सेना ने इसके जवाब में शुक्रवार को कुल 49 हमले किये।