तोक्यो मेट्रो तंत्र पर घातक गैस हमले की 29वीं बरसी

तोक्यो मेट्रो तंत्र पर सारिन गैस के घातक हमले की 29वीं बरसी पर बुधवार को इसके पीड़ितों को याद किया गया।

20 मार्च, 1995 को ओम शिनरिक्यो पंथ के सदस्यों ने मध्यवर्ती तोक्यो में तीन रेलवे लाइनों पर भीड़ से खचाखच भरी मेट्रो ट्रेनों के अंदर ज़हरीली तंत्रिका गैस छोड़ दी थी। इस हमले में 14 लोग मारे गये और लगभग 6,300 अन्य घायल हो गये थे।

कासुमिगासेकि सबवे स्टेशन पर कर्मचारियों ने सुबह लगभग 8 बजे कुछ क्षण का मौन रखा। यह वही समय है जब हमला हुआ था।

शोक संतप्त परिवारों, घटना से प्रभावित लोगों और मेट्रो यात्रियों ने स्टेशन के अंदर पुष्प अर्पित कर प्रार्थना की।

ओम शिनरिक्यो के पूर्व नेता, आसाहारा शोको जिनका असली नाम मात्सुमोतो चिज़ुओ था और 12 अन्य को पंथ द्वारा अंजाम दिये गए अपराधों के लिए 2018 में फांसी दी गयी थी।

सार्वजनिक सुरक्षा खुफ़िया एजेंसी का कहना है कि पंथ से जुड़े कई कनिष्ठ समूह सक्रिय हैं। एजेंसी का कहना है कि एलेफ़ नामक एक समूह अपना नाम छिपाकर युवाओं की भर्ती कर रहा है।