जेनरेटिव एआई स्टार्टअप में बहुमत हिस्सेदारी हासिल करेगी केडीडीआई

जापान की दूरसंचार दिग्गज केडीडीआई, जेनरेटिव आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस विकसित करने वाली एक घरेलू स्टार्टअप कंपनी में बहुमत हिस्सेदारी हासिल करेगी।

इलाइज़ा नामक इस कंपनी को तोक्यो विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने शुरू किया है। केडीडीआई के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, ताकाहाशि माकोतो ने कहा कि इलाइज़ा, जापान में शीर्ष स्तर की कंपनी है, जिसके पास तकनीकी और कार्यान्वयन विशेषज्ञता दोनों हैं।

उन्होंने कहा, "हमारा लक्ष्य जेनरेटिव एआई के क्षेत्र में अपने कारोबार का विस्तार करना है।"

केडीडीआई ने सोमवार को घोषणा की कि वह इलाइज़ा की 53.4 प्रतिशत हिस्सेदारी ख़रीदेगी, और वह 1 अप्रैल तक अरबों येन यानि करोड़ों डॉलर की अनुमानित क़ीमत के शेयर ख़रीदने की योजना बना रही है।

इलाइज़ा ने पिछले सप्ताह घोषणा की थी कि उसने अमरीका की प्रौद्योगिकी दिग्गज मेटा के लार्ज लैंगवेज मॉडल "लामा 2" का उपयोग कर सबसे शक्तिशाली घरेलू जेनरेटिव एआई मॉडल विकसित किया है।

इलाइज़ा को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ एडवांस्ड इंडस्ट्रियल साइंस एंड टेक्नोलॉजी से समर्थन मिला, जो उद्योग मंत्रालय द्वारा समर्थित है।

केडीडीआई, जेनरेटिव एआई को अपने संचार नेटवर्क के साथ संयोजित कर, कंपनियों और स्थानीय सरकारों को सेवाएँ प्रदान करना चाहती है।