बीओजे करेगा ऋणात्मक ब्याज दरों को समाप्त करने पर चर्चा

बैंक ऑफ़ जापान यानि बीओजे के नीति निर्धारक सोमवार से शुरू होने वाली अपनी दो दिवसीय बैठक में ऋणात्मक ब्याज दरों को समाप्त करने पर चर्चा करेंगे।

कई पर्यवेक्षकों का कहना है कि हालिया वेतन वृद्धि से संकेत मिलता है कि बीओजे की विशाल मौद्रिक उदारवादी नीति में बदलाव के लिए आर्थिक शर्तें पूरी हो रही हैं।

जापान के सबसे बड़े श्रमिक संघ संगठन, रेंगो ने पिछले सप्ताह कहा था कि कंपनियाँ, वार्षिक वसंत वेतन वार्ता में देश में औसतन 5.28 प्रतिशत की बढ़ोतरी पर सहमत हुई हैं। यह 33 वर्षों में सबसे बड़ी वेतन वृद्धि है।

केंद्रीय बैंक ने वेतन वार्ता पर कड़ी नज़र रखी हुई है। बैंक का कहना है कि उसकी अति-उदारवादी मौद्रिक नीति में बदलाव के लिए वेतन और
मुद्रास्फीति दर में वृद्धि का सकारात्मक चक्र ज़रूरी है।

बीओजे के गवर्नर उएदा काज़ुओ ने पिछले सप्ताह सांसदों से कहा कि नीति निर्धारक ऋणात्मक दर नीति को बदलने पर विचार करेंगे।

मंगलवार को वे चर्चा करेंगे कि 2 प्रतिशत की सतत् महँगाई दर का लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है या नहीं, तथा ऋणात्मक ब्याज दरों को समाप्त किया जाना चाहिए या नहीं।

नीति निर्धारक यील्ड-कर्व नियंत्रण ढाँचे में बदलाव पर भी विचार करेंगे। यह दीर्घावधि ब्याज दरों के साथ-साथ अल्पावधि दरों को भी नियंत्रित रखता है।

यदि बीओजे अपनी ऋणात्मक दर नीति को समाप्त करने का निर्णय लेता है, तो यह 17 वर्षों में केंद्रीय बैंक की पहली ब्याज दर वृद्धि होगी।
इस सप्ताह की नीति बैठक के नतीजों पर कड़ी नज़र रहेगी क्योंकि इसका अर्थव्यवस्था और वित्तीय बाज़ार दोनों पर असर पड़ने की संभावना है।