अमरीकी सैन्य अड्डों पर हमले जारी रखेगा ईरान समर्थित आतंकी गुट

ईरान समर्थित आतंकी गुट ने पूर्वी सीरिया स्थित अमरीकी सैन्य अड्डे पर ड्रोन हमले की ज़िम्मेदारी लेते हुए अमरीकी ठिकानों पर हमले जारी रखने का संकल्प लिया है।

इस्लामिक रेज़िस्टेंस नामक इस गुट ने इराक़ में बयान जारी कर कहा है कि उसने रविवार को सीरिया के देर-इज़ोर स्थित अमरीकी सैन्य अड्डे पर ड्रोन हमला किया है। उसका यह भी कहना है कि वह "दुश्मन के गढ़ों" को नष्ट करना जारी रखेगा।

इससे पहले, अमरीकी सेना ने शुक्रवार को इराक़ और सीरिया में ईरान के विशेष सैन्य ठिकानों पर बमबारी की थी। ग़ौरतलब है कि अमरीका ने यह बमबारी, जॉर्डन में हुए ड्रोन हमले में अपने 3 सैनिकों की मौत के प्रतिशोध में की थी।

इस क्षेत्र के देशों ने अमरीकी हवाई हमलों पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

सीरिया की स्थिति पर नज़र रखने वाले एक मानवाधिकार संगठन ने कहा है कि इस्लामिक रेज़िस्टेंस द्वारा किया गया हमला रविवार रात से सोमवार सुबह तक चला।

संगठन का कहना है कि इस हमले में सैन्य ठिकाने पर अमरीकी सैनिकों के साथ उपस्थित कुर्द बलों के 7 कर्मी मारे गये हैं।

अमरीका के जवाबी हवाई हमलों का उद्देश्य, आतंकी गुटों के हमलों को रोकना था लेकिन इन झड़पों के शीघ्र रुकने के संकेत दिखाई नहीं दे रहे हैं।