आश्रय स्थलों में अब भी हैं 10,000 से ज़्यादा भूकंप पीड़ित

मध्यवर्ती जापान के नोतो प्रायद्वीप में 1 जनवरी को आये भूकंप को सोमवार को 5 सप्ताह पूरे हो गये। अब भी 10,000 से अधिक लोग आश्रय स्थलों में रह रहे हैं, जबकि कुछ लोगों ने अस्थायी आवासों में जाना शुरू कर दिया है।

7.6 की तीव्रता के इस भूकंप और उसके बाद के झटकों में 240 लोग मारे जा चुके हैं, जबकि व्यापक क्षेत्रों में इमारतें क्षतिग्रस्त हो गयी हैं। इशिकावा प्रीफ़ैक्चर ने 12 लापता लोगों के नाम जारी किये हैं।

भूकंप से बुनियादी ढाँचे को भी भारी नुक़सान पहुँचा है। अधिकांश इलाक़ों में विद्युत आपूर्ति बहाल हो गयी है, लेकिन वाजिमा और सुज़ु सहित 7 शहरों तथा नगरों में जलापूर्ति अब तक ठप है।

इशिकावा के अधिकारियों के अनुसार शुक्रवार तक 14,431 लोगों ने पलायन केन्द्रों में शरण ली हुई थी, जबकि पिछले मंगलवार तक 2,867 लोग अपने क्षतिग्रस्त मकानों में रह रहे थे।

प्रीफ़ैक्चर ने 18 अस्थायी आवास बनाये हैं, जिनमें शनिवार से कुछ विस्थापितों ने जाना शुरू कर दिया है। मार्च के अंत तक ऐसे 3,000 आवास और बनाये जाएँगे, इसके बावजूद कई भूकंप पीड़ितों को आश्रय स्थलों में ही रहना होगा।

वाजिमा शहर के कई निवासी अपने घरों को लौटने में असमर्थ हैं, जिसके मद्देनज़र पुलिस ने सुरक्षा-व्यवस्था कड़ी करने के लिए शहर के मध्यवर्ती भाग में निगरानी कैमरे लगाये हैं।