वाजिमा के भूकंप पीड़ितों का अस्थायी आवासों में जाना शुरू

मध्यवर्ती जापान के इशिकावा प्रीफ़ैक्चर स्थित वाजिमा शहर में 1 जनवरी को आये भूकंप से प्रभावित लोगों ने अस्थायी आवासों में जाना शुरू कर दिया है।

शहर के केन्द्र में एक खुली जगह में ऐसे आवास प्रीफ़ैक्चर में पहली बार बन कर तैयार हुए हैं। शनिवार को 18 परिवारों के 55 लोगों के लिए इन्हें खोला गया। भूकंप में मकान गवां देने वाले लोगों या विशेष देखभाल की ज़रूरत वाले बुज़ुर्गों को प्राथमिकता दी गई है।

नये निवासियों ने सुबह इन मकानों में जाना शुरू किया।

इनमें से एक हैं ओशिता सुमिको जिनका मकान शहर के आसाइचि मार्ग में लगी भीषण आग में जल गया था। वे वहाँ अकेली रहती थीं। वे अपनी बेटी के परिवार के साथ एक शरण स्थल में रह रही हैं।

ओशिता ने अपने नये घर में घरेलू उपकरण जैसे फ़्रिज और टीवी, तथा खाना पकाने के सामान सहित अन्य राहत सामग्री की जाँच की।

उन्होंने खुशी जताते हुए कहा कि शरण स्थल में उन्हें अक्सर सोने में मुश्किल हो रही थी। उन्होंने यह भी कहा कि अब वे आसानी से कपड़े धो सकेंगी। उन्होंने कहा कि वे अब आराम करना चाहती हैं, हालाँकि परिवार के साथ अब न रह पाने का उन्हें मलाल है।

नोतो प्रायद्वीप स्थित वाजिमा शहर भूकंप में बुरी तरह तबाह हो गया है। शहर के अधिकारियों का कहना है कि उन्हें अस्थायी आवासों के लिए 4,000 से अधिक आवेदन प्राप्त हुए हैं, तथा 548 आवासों का निर्माण-कार्य जारी है। इशिकावा प्रीफ़ैक्चर का कहना है कि मार्च के अंत से लगभग 3,000 आवासों का निर्माण करने की उसकी योजना है।