एनएचके - नोतो भूकंप में 30 से अधिक की ठंड से मौत

एनएचके को ज्ञात हुआ है कि 1 जनवरी को आये भीषण भूकंप के बाद, इशिकावा प्रीफ़ैक्चर में 30 से अधिक लोगों की ठंड से मौत हुई। समझा जाता है कि इनमें से कई लोग भूकंप के बाद बचाए जाने का इंतज़ार कर रहे थे।

प्रीफ़ैक्चर में मंगलवार तक 238 लोगों के मरने की पुष्टि हो चुकी थी। एनएचके ने 222 लोगों की मौत के कारणों की जानकारी राष्ट्रीय पुलिस एजेन्सी से प्राप्त की है। पुलिस इन लोगों का पोस्टमार्टम कर चुकी है।

मृतकों में से 92 लोगों यानि 41 प्रतिशत की दब कर मौत हुई, जबकि 49 अन्य यानि 22 प्रतिशत की दम घुटने या साँस न ले पाने के कारण मृत्यु हुई।

32 लोगों यानि 14 प्रतिशत की हाइपोथर्मिया यानि ठंड से मौत हुई।

204 मृतकों की उम्र की पुष्टि की जा चुकी है और इनमें से 70 प्रतिशत से अधिक की उम्र 60 वर्ष या इससे अधिक थी।

प्रीफ़ैक्चर अधिकारियों ने मृतकों के परिवारों की सहमति से मृत्यु के कारणों को सार्वजनिक किया है। लेकिन इन्हें आम श्रेणियों में डाला गया है जैसे "मकानों का ढहना" और "भूस्खलन"।

यह पहली बार है जब इतनी विस्तृत जानकारी सामने आयी है।