इज़्रायल - बंधक रिहाई वार्ता में हमास के साथ मतभेद बरक़रार

इज़्रायल का कहना है कि उसके और हमास के बीच बंधक समझौते को साकार करने के उद्देश्य से हुई वार्ता के बाद भी दोनों पक्षों के बीच गहरे मतभेद बने हुए हैं।

इज़्रायली प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक वक्तव्य में कहा कि रविवार को यूरोप में आयोजित एक बैठक में अमरीका की केंद्रीय गुप्तचर एजेंसी के निदेशक विलियम बर्न्स, इज़्रायल की ख़ुफ़िया सेवा, मोसाद के प्रमुख तथा दो मध्यस्थ देशों, मिस्र और क़तर के अधिकारियों ने भाग लिया।

माना जाता है कि जिन प्रस्तावों पर चर्चा हुई उनमें से एक में, गाज़ा में दो महीने तक युद्ध रोकने और इज़्रायल में फ़िलिस्तीनी कैदियों को रिहा करने के बदले में हमास द्वारा बंधक बनाये गए लोगों को रिहा करने की पेशकश की गयी है।

लेकिन स्पष्ट रूप से दोनों पक्षों के बीच मतभेद अब भी बने हुए हैं। हमास पूर्ण युद्धविराम की माँग कर रहा है, जबकि इज़्रायल का कहना है कि वह गाज़ा में अपना सैन्य अभियान जारी रखेगा।

हालाँकि, वक्तव्य में इस बैठक को "रचनात्मक" बताते हुए कहा गया है, "दोनों पक्षों के बीच अब भी गहरे मतभेद हैं जिन पर उन्हें इस सप्ताह होने वाली अतिरिक्त बैठकों में चर्चा करनी होगी।"