हमास हमले में यूएनआरडब्ल्यूए कर्मियों की संदिग्ध संलिप्तता के चलते जापान ने रोकी मदद

जापान, फ़िलिस्तीनी शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र एजेन्सी, यूएनआरडब्ल्यूए को दी जाने वाली अतिरिक्त सहायता राशि पर रोक लगाने जा रहा है। 7 अक्तूबर को इज़्रायल पर हमास के आतंकी हमले में एजेन्सी के कुछ कर्मियों की कथित संलिप्तता के मद्देनज़र यह फ़ैसला लिया गया है।

अमरीका, ब्रिटेन और अन्य देशों ने भी यूएनआरडब्ल्यूए के प्रति यह क़दम उठाया है, जिसके बाद जापान के विदेश मंत्रालय में विदेश प्रेस सचिव कोबायाशि माकि ने रविवार को वक्तव्य जारी कर यह घोषणा की।

कोबायाशि का कहना है कि “आतंकी हमले में यूएनआरडब्ल्यूए कर्मियों की कथित संलिप्तता को लेकर जापान बेहद चिंतित है।”

उन्होंने कहा कि “यूएनआरडब्ल्यूए, मामले की जाँच करते हुए इन आरोपों से निपटने के उपायों पर विचार कर रही है और फ़िलहाल जापान ने अतिरिक्त सहायता राशि पर रोक लगाने का फ़ैसला किया है।”

कोबायाशि ने यह भी कहा कि “जापान, यूएनआरडब्ल्यूए से त्वरित और पूर्ण जाँच करने तथा उचित उपाय अपनाने का पुरज़ोर आग्रह कर रहा है।”

विदेश मंत्रालय के अनुसार मार्च में समाप्त होने वाले वर्तमान वित्त वर्ष के पूरक बजट में जापान ने यूएनआरडब्ल्यूए में योगदान के लिए क़रीब 3.5 करोड़ डॉलर आवंटित किये हैं, हालाँकि यह धनराशि अब तक भेजी नहीं गयी है।